एक्सक्लूसिवः आलिया भट्ट ने कलंक के कई सीन में दिए 10 से ज्यादा टेक, बताया सबसे चैलेंजिंग रहा रूप का किरदार

फिल्म 'कलंक' की एक्ट्रेस आलिया भट्ट ने हिंदी रश डॉट कॉम को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में बताया कि उन्हें अब तक के करियर में सबसे चैलेंजिंग रोल का कौन सा लगा और उन पर अब काम करने का प्रेशर कैसा होने वाला है?

Author   |     |     |     |   Updated 
एक्सक्लूसिवः आलिया भट्ट ने कलंक के कई सीन में दिए 10 से ज्यादा टेक, बताया सबसे चैलेंजिंग रहा रूप का किरदार
फिल्म 'कलंक' में रूप के किरदार में आलिया भट्ट। (फोटोः इंस्टाग्राम)

फिल्म ‘कलंक’ का ट्रेलर रिलीज होने के बाद से ही चर्चा में है। यह एक मल्टी स्टारर फिल्म है, जिसमें संजय दत्त, माधुरी दीक्षित, सोनाक्षी सिन्हा, आदित्य रॉय कपुर, वरुण धवन और आलिया भट्ट लीड रोल में हैं। फिल्म कुणाल खेमू का अहम किरदार है। पूरी स्टारकास्ट इस दौरान फिल्म के प्रमोशन में लगी हुई है।

इसी कड़ी में फिल्म की सबसे छोटी उम्र की बड़ी एक्ट्रेस आलिया भट्ट ने हिंदी रश डॉट कॉम को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में बताया कि उन्हें अब तक के करियर में सबसे चैलेंजिंग रोल का कौन सा लगा और उन पर अब काम करने का प्रेशर कैसा होने वाला है? यहां पढ़िए उन्होंने क्या कहा…

सवालः आपने हाइवे, उड़ता पंजाब, गल्ली बॉय जैसी फिल्म की। सबसे चैलेंजिंग रोल कौन सा था?

आलिया भट्टः मुझे लगता है कि ‘उड़ता पंजाब’ मेरे लिए बहुत ही चैलेंजिंग था, ‘हाइवे’ के टाइम पर नई थी, मुझे पता भी नहीं था कि जुहू से बाहर जाना भी क्या होता? वो मेरे हिसाब ज्यादा चैलेंजिंग था। ‘उड़ता पंजाब’ भी चैलेंजिंग था क्योंकि मैं जानती भी नहीं थी कि इस दुनिया में लोग करते क्या है? बात कैसे करते हैं, उठते कैसे हैं, बात कैसे करते हैं? ‘कलंक’ एक पीरियड ड्रामा है और एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। एक केरेक्टर को एक पीरियड टाइम में कनवर्ट करना और उसी समय इतने सारे लेयर्स एक्प्रेस करना, जोकि दिखाई दिया है।

मैं अभिषेक वर्मन को इंसेप्शन ऑफ डायरेक्शन बुलाती हूं क्योंकि एक लाइन में तीन इमोशन चाहिए, पहले ये दो, फिर ये दो, थोड़ा ये दो तो मैं कर तो रही हूं, लेकिन वो ओके नहीं करते थे। कई बार होता था कि मन नहीं होता। कभी-कभी एक लाइन पर एक्स्प्रेशन ठीक नहीं आए तो फिर से करना पड़ता था। तो यह बहुत चैलेंजिंग था।

शूटिंग के दौरान क्या कहते थे डायरेक्टर अभिषेक वर्मन…

अक्सर मेरा एक-दो टेक में हो जाता है, कलंक में 11-12-13 टेक करने पड़ते थे, डायरेक्टर कहते थे कि पुश करो-पुश करो और डीप जाओ और हां, कॉस्ट्यूम, ज्वैलरी, माधुरी मैम (दीक्षित) के सामने डांस करना, वो तो करते-करते मैं तीन साल बूढ़ी हो गई, डांस स्टेप दिमाग में रखते-रखते। कुल मिलाकर ये सीखने में बहुत ही अच्छा अनुभव रहा।

सवालः आपने छोटी उम्र में इतने भारी-भारी कैरेक्टर कर लिए हैं, तो कहीं ना कही जिम्मेदारी आप पर होती है, दर्शक सोचेंगे कि आलिया अब क्या करेगी? तो अब क्या पर दबाव होगा अलग कैरेक्टर करने का?

आलिया भट्टः जिम्मेदारी तो है ही, उसे मैं खुशी-खुशी स्वीकार भी करूंगी। मेरा कर्तव्य ऑडियंस को एंटरटेन करना है। अगर हम वो जिम्मेदारी नहीं समझेंगे तो कोई भी ऐसी फिल्म कर लेंगे, जिसका कोई मतलब या विचार नहीं होगा।

आलिया भट्ट आगे बताती हैं कि…

मैं इंस्टेंट काम करती हूं, पर मैं कोशिश करती हूं कि पहले तो अपने आप को चैलेंज करूं। दूसरे जो मेरे फेवरेट डायरेक्टर हैं उनके साथ काम करूं और तीसरा दर्शकों को एंटरटेन करूं। सीरियसली या नॉन सीरियसली। मेरा मानना है कि मैं खुद को एंटरटेन कर रही हूं तो दर्शकों को भी एंटरटेन कर रही हूं। ईमानदारी से काम करूंगी तो अपनी जिम्मेदारी पर खरी उतरुंगी।

वीडियो में देखिए आलिया भट्ट ने बताया किस सीन के लिए हो गईं थी माधुरी दीक्षित और वो नर्वस…

Exclusive News, TV News और Bhojpuri News in Hindi के लिए देखें HindiRush । देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से ।

Story Author: रमेश कुमार

रमेश कुमार
जाकिर हुसैन कॉलेज (डीयू) से बीए (हॉनर्स) पॉलिटिकल साइंस में डिग्री लेने के बाद रामजस कॉलेज में दाखिला लिया और डिपार्टमेंट ऑफ पॉलिटकल साइंस में पढ़ाई की। इसके बाद आईआईएमसी दिल्ली।

ramesh.kumar@hidirush.com     +91 9013770765
601, ड्यूरोलाइट हाउस, न्यू लिंक रोड, अंधेरी वेस्ट,मुंबई, महाराष्ट्र, इंडिया- 400053
Tags: , ,

Leave a Reply