Good Friday 2020 Date: कब है गुड फ्राइडे, क्यों मनाया जाता है प्रभु यीशु का ये पर्व ?

Good Friday 2020 Kab Hai, Good Friday 2020 Date: ईसाई धर्म में 'गुड फ्राइडे' का एक विशेष महत्व है। 'गुड फ्राइडे' ईसाई धर्म के सबसे प्रमुख त्योहारों में एक माना जाता है। इस वर्ष 'गुड फ्राइडे' 10 अप्रैल को मनाया जाएगा।

  |     |     |     |   Updated 
Good Friday 2020 Date: कब है गुड फ्राइडे, क्यों मनाया जाता है प्रभु यीशु का ये पर्व ?
Good Friday 2020

Good Friday 2020 Date: ईसाई धर्म में ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday) का एक विशेष महत्व है। ‘गुड फ्राइडे’ ईसाई धर्म के सबसे प्रमुख त्योहारों में एक माना जाता है। इस वर्ष ‘गुड फ्राइडे’ 10 अप्रैल को मनाया जाएगा। गुड फ्राइडे को ‘होली फ्राइडे’ के नाम से भी जाना जाता है। वहीं बहुत से लोग इसे ‘ग्रेट फ्राइडे’ के नाम से भी जानते हैं। ‘गुड फ्राइडे’ को अलग-अलग देशों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

क्यों मनाया जाता है ‘गुड फ्राइडे’?

ईसाई धर्म की मान्यताओं के अनुसार बताया जाता है कि इस दिन गुरु ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था। सूली पर चढ़ाने के तीन बाद ही वो ज़िंदा हो गए थे, जिसके बाद ईस्टर संडे मनाया जाने लगा। ‘गुड फ्राइडे’ को ईसाई धर्म के लोग ‘शोक दिवस’ के रूप में भी मनाते हैं। जब इस दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया तो इसे गुड फ्राइडे क्यों कहते हैं ? लोगों के मन में ये सवाल अक्सर बना रहता है। इसके पीछे का कारण बताया जाता है कि ईसा मसीह ने लोगों की भलाई के लिए अपनी जान दी थी, इसलिए इस दिन को ‘गुड’ कहकर संबोधित किया जाता है। साथ ही इस दिन शुक्रवार था इसलिए इसे ‘गुड फ्राइडे’ कहा जाता है। इस दिन को उनकी कुर्बानी दिवस के रूप में भी मनाते हैं।

Good Friday 2020

‘गुड फ्राइडे’ को ईसाई धर्म के लोग बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं। ईसाइयों के घरों में ‘गुड फ्राइडे’ के 40 दिन पहले से ही प्रार्थना और व्रत रखने शुरू हो जाते हैं। इस व्रत में ये शाकाहारी खाना खाते हैं। 40 दिन बाद जब उपवास (व्रत) ख़त्म होता है तो लोग गुड फ्राइडे के दिन चर्च जाते हैं और अपने ईसा मसीह को याद कर शोक मनाते हैं।

ईसाई धर्म के मुताबिक ईसा मसीह परमेश्वर के बेटे हैं। उन्‍हें अज्ञानता के अंधकार को दूर करने के लिए मृत्‍यु दंड दिया गया था। उस समय यहूदियों के कट्टरपंथी धर्मगुरुओं ने यीशु का विरोध किया था। ऐसे में कट्टरपंथ‍ियों को खुश करने के लिए पिलातुस ने यीशु को क्रॉस पर लटकाकर जान से मारने का आदेश दे दिया। लेकिन अपने हत्‍यारों की उपेक्षा करने के बजाए यीशु ने उनके लिए प्रार्थना करते हुए कहा था, ‘हे ईश्‍वर! इन्‍हें क्षमा कर क्‍योंकि ये नहीं जानते कि ये क्‍या कर रहे हैं।’ जिस दिन ईसा मसीह को क्रॉस पर लटकाया गया था उस दिन फ्राइडे यानी कि शुक्रवार था। तब से उस दिन को गुड फ्राइडे कहा जाने लगा।

Exclusive News, TV News और Bhojpuri News in Hindi के लिए देखें HindiRush । देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से ।

Story Author: lakhantiwari



    +91 9004241611
601, ड्यूरोलाइट हाउस, न्यू लिंक रोड, अंधेरी वेस्ट,मुंबई, महाराष्ट्र, इंडिया- 400053
    Tags: , ,

      Anonymous

      यह यीशु की तुलना में अधिक अच्छा व्यक्ति था। वह भगवान का पुत्र था, मानव रूप में भगवान का पुत्र। उसने एक आदर्श जीवन जिया और मनुष्य को ईश्वर से मिलाने के लिए अपना खून बहाया। यदि आप अपने मुंह से घोषणा करते हैं, “यीशु भगवान हैं,” और अपने दिल में विश्वास करें कि भगवान ने उन्हें मृतकों से उठाया है, तो आप बच जाएंगे। वास्तव में समझने के लिए नए नियम को पढ़ना आवश्यक है। और बाइबिल का पुराना नियम यीशु को इंगित करता है।

      Anonymous

      123

    Leave a Reply