Exclusive: रामानंद सागर के ‘श्री कृष्णा’ के शकुनी को भूले तो नहीं? उठा इनकी गुमनामी की ज़िन्दगी से पर्दा!

Jai Prakash Sharma Exclusive Interview: जय प्रकाश शर्मा ये नाम आज टीवी इंडस्ट्री में दूर दूर तक नहीं है मगर, रामानंद सागर (Ramanand Sagar) के शो 'श्री कृष्णा' के शकुनी मामा को तो आप जानते ही होंगे! जी हां आप भले ही भूल गए हैं लेकिन हमारी ये ख़ास रिपोर्ट आपको सबकुछ याद दिलाएगी और आपको बताएगी कि अब ये शकुनी मामा इंडस्ट्री से दूर आख़िर कर क्या रहे हैं!

  |     |     |     |   Updated 
Exclusive: रामानंद सागर के ‘श्री कृष्णा’ के शकुनी को भूले तो नहीं? उठा इनकी गुमनामी की ज़िन्दगी से पर्दा!

जय प्रकाश शर्मा (Jai Praksh Sharma), ये नाम आज टीवी इंडस्ट्री में दूर दूर तक नहीं है मगर, गौर से देखें तो इस इंसान का चेहरा आपके ज़हन से कभी गया ही नहीं! कहते हैं कि एक्टर वही होता है जिसे लोग उसके किरदार के नाम से पहचानने लगें! जय प्रकाश शर्मा ,वही एक्टर है जिसके किरदार का नाम लेते ही आपके ज़हन में उनका चेहरा आ जाएगा! आज से 27 साल पहले जानेमाने फ़िल्म मेकर रामानंद सागर की नज़र इस शख्स पर पड़ी थी, या ये कहो कि इनकी मेहनत की चमक उनकी आंखों में चमकी थी। इस समय रामानंद सागर (Ramanand Sagar) बना रहे थे ‘श्री कृष्णा’! जी हां वही ‘श्री कृष्णा’ (Shree Krishna) जो इन दिनों लॉकडाउन के चलते दूरदर्शन पर फिर से प्रसारित किया जा रहा है!  यह शो कृष्ण के जीवन से सम्बंधित कहानियों पर आधारित था। गर्ग संहिता , पद्म पुराण , ब्रह्मवैवर्त पुराण , हरिवंश पुराण , महाभारत , भागवत पुराण , भगवद् गीता आदि पर बना ये शो और इस शो का सबसे बड़ा विलन, जय प्रकाश शर्मा!

अगर आपको अब भी याद ना आया हो तो, याद कीजिये बड़ी आंखें और एक पैर से लंगड़ा कर चलने वाला ये किरदार, इस किरदार के बिना महाभारत अधूरी है! कमज़ोर याद्दाश्त वालों को बता दूँ कि ये हैं ‘श्री कृष्णा’ के शकुनी! जी हां, शकुनी मामा!

जे पी शर्मा बचपन से ही थे दिव्यांग!

जय प्रकाश शर्मा ‘श्री कृष्णा’ शो में शकुनी के किरदार में!

हिंदीरश आपके लिए लेकर आया है इस विलन, जय प्रकाश शर्मा की ‘सुपर हीरो’ टाइप की स्टोरी। जे पी शर्मा राजस्थान के छोटे से गांव लाडनूं के रहवासी हैं। शकुनी मामा के किरदार के लिए नहीं, बल्कि बचपन में पोलियो की वो दो बूँदें ना मिलने की वजह से वो एक पैर से लाचार रहे हैं। घर की गरीबी और पैर की लाचारी ने उनके बचपन को खेलने ही नहीं दिया बल्कि,  दिव्यांग होने की वजह से स्कूल के कुछ बच्चे उन्हें ना कि कम आंकते थे बल्कि उन्हें  तंग करने के लिए उनका खाना छीनकर उनपर पेशाब तक कर देते थे! माहौल इतना बिगड़ा कि जे पी शर्मा ने तय कर लिया कि वो स्कूल ही नहीं जाएंगे। घर से स्कूल के नाम से निकल कर वो पास में एक कब्रिस्तान में जा बैठते थे।

वहां कोई न कोई कब्र पर कुछ खाने के लिए रख जाता और ये उससे ही अपना पेट भर लेते! फिर धीरे धीरे उन्हें ज्ञात हुआ कि योग करने से उनका पैर ठीक हो सकता है, कम से कम उतना कि वो अपने पैर को अपने हाथ के सहारे के बिना चला पाएं। फिर क्या, कब्रिस्तान में चार सालों तक यो योग करते रहे और आसपास के गांव में उन जैसे  दिव्यांग  लोग उनसे प्रेरित होकर उनके साथ जुड़ते रहे। योग और कसरत के अच्छे कॉम्बिनेशन से उनके पैर से उनका हाथ सदा के लिए हट गया और अब उनके पास एक अच्छी बॉडी भी थी। गांव के अन्य दिव्यांग लोगों के साथ उन्होंने कई योग प्रदर्शन किये जिसके चलते 5-10 रूपये कभी ईनाम के तौर पर मिल जाते! लेकिन, दिमाग में कीड़ा था कि मेरी आवाज़ माइक पर कैसी लगती है और इसके लिए वो गांव में हो रहे रामलीला में कई बार माइक छीन कर भरी महफ़िल में आपनी आवाज़ को बुलंद कर चुके थे, हालांकि इसके बाद उन्हें धक्के मार कर बाहर कर दिया जाता! गांव के कुछ लोग कहते थे, ‘यार महाभारत में शकुनी मामा भी तेरे जैसे चलता है।’ बस यहीं से सूझा मुंबई जाकर एक्टिंग का सफ़र!

पृथ्वी थिएटर, भाषा की पकड़ और फिर एक उड़ान की तैयारी!

जय प्रकाश शर्मा एक नाटक के दौरान

शकुनी मामा उर्फ़ जे पी शर्मा ने कहा, “फ़िल्म लाइन में जाने के तीन साधन है, एक पैसा जिससे आप कुछ भी बनाए लोग देखेंगे ही और नहीं देखेंगे तो कोई फर्क नहीं है, दूसरा पर्सनालिटी अच्छी हो, लम्बा कद गोरा चिट्टा मुख, तीसरा आपकी किस्मत …जैसे आप सड़क पर चल रहे हैं और डायरेक्टर की नज़र आप पर पड़ गई हैं। पर मुझे लगा टैलेंट भी कुछ है… और इसके लिए लगा हिंदी नाटक सही रहेगा! पृथ्वी थिएटर गया, सुना था कि वहां नाटक हो गया तो आपकी फ़िल्मी करियर में एंट्री पक्की है। फिर अखबार में एक ऐड देखा कि हिंदी नाटक में एक्टर चाहिए, मैं परेल गया और उन्होंने कहा पृथ्वी थिएटर में एक शो होने वाला है। वहां कुछ लोग मिले जिन्होंने हिंदी की समझ दी।

पृथ्वी थिएटर में एक्टर की प्रॉपर्टी लगाया करता था। अब मुझे रोल मिल गया था! और अब यहां जब कोई एक्टर नहीं आता था तो मैं उसके डायलॉग बोल दिया करता था। ऐसे में एक बार मुझे नाटक में जज बना दिया गया क्यूंकि जो जज बनने वाला वो आया नहीं। जहां 1 डायलॉग था वहां 2 पेज के डायलॉग मिल गए। दिन में रिहर्सल करता था रात को नाईट सुपरवायज़र की नौकरी करता था। बिहार के एक मुख्यमंत्री थे जग्गंनाथ मिश्रा ये नाटक उनपर था और उनके निजी जीवन के किस्से को हम नाटक में उतारने वाले थे इसलिए हमें नाटक की सेंसरशिप नहीं मिली और नाटक बन्द हो गया। लेकिन भूख हड़ताल की धमकी देकर नाटक के कहानी को थोड़ा बदलने के बाद ये नाटक फाइनली हुआ। शोले फ़िल्म के गाने के एक्टर जलाल आगा ने मेरा एक नाटक देखा और कहा कि मुझसे आकर मिलो और उन्होंने कहा कि हिंदी ख़राब है । फिर उनसे सीखा कि हिंदी और उर्दू क्या है।”

रामानंद सागर उर्फ़ पापाजी के आंखों में चमके शकुनी!

“मैं सबसे कहता था कि मैं आप सबसे अलग हूं क्यूंकि मैं सीधे नहीं चलता आप लोगों की तरह। इस दौरान मैंने सुना कि रामानंद सागर की महाभारत आ रही है तो मुझे गांव की बात याद आई… ‘शकुनी’! सुनील पांडे कहा करते थे कि तू बडौदा आ जा वहां एक टीम है जो 7 8 लोग की है और वो छोटे मोटे रोल करते रहते हैं। मैं गया वहां रामानंद सागर से मिलने, शाहनवाज़ मिले और उन्होंने कहा कि कृष्णा का सीरियल है तो, मैंने कहा कि मुझे शकुनी का डायलॉग लाकर दे दो बस! उन्होंने मुझे डेढ़ 2 पेज के डायलॉग लाकर दिए, मैंने 10 मिनट में ये सब याद किया और उनको सुनाया! उन्होंने 2 3 दिन बाद कहीं से जुगाड़ करके ऑडिशन में मुझे घुसाया और मुझसे पहले 15 -20 लोग थे।

मोती सागर, रामानंद सागर के बेटे थक गए थे लोगों के ऑडिशन लेकर। मैं हस्तिनापुर के सेट पर जाकर खड़ा हो गया। कुछ सेन्स नहीं था कैमरे, लाइट का… बस शकुनी का डायलॉग बोलने के लिए रेडी था। मेरे डायलॉग के बाद तालियां बजी, 2 पेज का डायलॉग एक बार में बोल दिया, उन्होंने कहा इसी डायलॉग को रो कर कैसे बोलेंगे, मैंने वो भी किया, कॉमेडी में करने को कहा तो मैंने वो भी किया। फिर कहा 2 3 दिन बाद पापा जी (रामानंद सागर) आएँगे उनसे पूछ के आपको लिया जाएगा। जब पापा जी सेट पर होते थे तब पिन ड्राप साइलेंस होता था और हर कोई उनके पीछे चला करता था। चलते चलते बोले कि सबका ऑडिशन मुंबई में हो गया है और सब तय है पहले ही…मैंने जब ये सुना तो उनके पास गया और उनसे सीधे बोला कि कंपटीशन करा लीजिये, जो जीतेगा वही करेगा रोल। उन्होंने मेरे बारे में सुना था और ऑडिशन भी देखा था और मेरा इस तरह उनके सामने आना…शायद यहीं उन्होंने मुझमे शकुनी को देखा! उन्होंने कहा कि तुम ही करोगे अब शकुनी का रोल!

ऐसे बने ‘श्री कृष्ण’ के शकुनी, नए अंदाज़ के साथ!

 जय प्रकाश शर्मा ‘श्री कृष्णा’ में शकुनी के किरदार में!
“3500 रूपये एक एपिसोड के! सबसे लिए उधार चुका दूंगा… कांपते हुए, आंसू में मैंने अग्रीमेंट शुरू किया। उन्होंने कहा कि हर महीने में 1000 रूपये बढ़ाए जाएंगे!  महीने के 4 रविवार और एक एपिसोड के 3500 रूपये…ये मेरे लिए कुछ ज्यादा है! गेटअप लेकर जब मैं पापा जी के पास गया  तो उन्होंने कहा की चलकर बता, पासे कैसे फेंकेगा? तो मैंने सोचा कि ऐसे करूंगा तो लोग कहेंगे कि गूफी पेंटल की नक़ल कर रहा है…तो मैंने उंगलियाँ घूमा कर पासे फेंके और ये बहुत फेमस हुआ और लोग आज भी याद करते हैं। ‘जय गंगा मैया’ में शुक्राचार्य का रोल किया उसके 78 एपिसोड किये। ‘अलिफ़ लैला किया’, ‘आंखें’ शो किया… ये उस समय के बेहतरीन शो थे, सुपरहिट!”

जब रामानंद सागर और एकता कपूर के बीच फंस गए थे शकुनी!

जय प्रकाश शर्मा शो ‘साईं बाबा’ के सेट से!
‘श्री कृष्णा’ के सीरियल के सेट पर जब लोग आते थे तो विलन को देखने के लिए कहते थे कि शकुनी और दुर्योधन को देखना है। ‘आंखें’ में भी लोग विलन को पूछा करते थे। शो ‘टिम्बा रुचा’ किया, उसमें बहुत सारे रोल्स किये। रामानंद सागर के यहां एक असिस्टेंट था वो एकता कपूर के यहाँ चला गया था उसने मुझे कॉल किया एक शो ‘कर्मा’ के लिए जिसमें यश टोंक मुख्य किरदार में था। मैंने वो चार एपिसोड किये, वहां एकता कपूर भी आई और कहा कि तुमने बहुत ही बेहतरीन काम किया। एकता कपूर के एक और सीरियल के लिए बुलाया गया। तो मैंने कहा रामानंद सागर से कहा कि क्या मैं 15 दिन यहां और एकता के यहां 15 दिन काम करूँ? तो उन्होंने कहा कि एकता का नया प्रोडक्शन है पता नहीं चलेगा या नहीं, यहां तुम पूरी तरह से सिक्योर हो। मैंने बस रिस्क नहीं लिया… काश ले लेता! शो ‘पृथ्वीराज चौहान’ आया तो उसमें मैंने जयमल का किरदार किया। यहीं मार्केटिंग का काम भी शुरू करने लगा। वहां लॉस हुआ काफी फिर, डबिंग करने लगा और धीरे धीरे एक्टिंग से निकल गया। पापा जी के सारे शो की शूटिंग बडौदा में होती थी तो मुंबई कभी रहा ही नहीं, इसलिए ज्यादा लोगों से टच में नहीं रह पाया। फ़िल्म लाइन में पेमेंट का तरीका बदल गया, अब 90 दिनों में पैसे मिला करते थे इसलिए मैंने मार्केटिंग को ही चुना और आगे बढ़ा! 90 दिन तक पैसों का इंतज़ार करना मेरे जैसे लोगों के लिए बहुत ही तकलीफ वाली बात थी, मैं दुखी तह कि इतना काम करने के बाद भी मुझे ये पेशा छोड़ना पड़ रहा है, लेकिन वो कहते हैं ना ‘सबसे बड़ा रुपया…!’

छोड़ दी एक्टिंग…फिर!

“फिर पता चला की डायरेक्ट सेलिंग क्या होती थी, तो उससे जुड़ा!  फिर शूटिंग के चलते मार्केटिंग नहीं कर पाया क्यूंकि शूटिंग के लिए बुलावा कभी भी आ जाता और उसके चलते मार्केटिंग नहीं कर पाता! पैसे ठीक ठाक मिल रहे थे यहां भी तो बस, अमिन पैसों में लगा रहा!  फ़िलहाल एक आयुर्वेदिक कंपनी से जुड़ा हूं, जो आयुर्वेदिक प्रोडक्ट बनाती है। मैं 26 दिनों टूर पे रहता हूं, उड़ीसा, राजस्थान, अहमदाबाद और भी कई जगह! इस कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर हूं, कमीशन मिलते हैं। कोरोना के बाद इनकी डिमांड अच्छी हो गई है।”
ये पूछे जाने पर कि क्या फिर से फ़िल्मों या एक्टिंग की तरफ रुख करने का सोच रहे हैं, तो बता दें कि जे पी शर्मा अब नए किरदारों की फिराक में हैं, उम्मीद है कि इस बार उनका स्ट्रगल लाडनूं से नहीं मुंबई से शुरू हो और एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री इस बार उनका दिल खोल कर स्वागत करे और कई सितारों के बीच सालों पुराना ये सितारा भी चमकता हुआ दिखाई दे!

Exclusive News, TV News और Bhojpuri News in Hindi के लिए देखें HindiRush । देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से ।

Story Author: Shikha Sharma



    +91 9004241611
601, ड्यूरोलाइट हाउस, न्यू लिंक रोड, अंधेरी वेस्ट,मुंबई, महाराष्ट्र, इंडिया- 400053
    Tags: , , , , , , , , ,

    Leave a Reply