दीपिका कुमारी बनी नंबर 1 तीरंदाज!

July 05, 2021

झारखंड के बेहद ग़रीब परिवार में जन्म लेने वाली 27 वर्षीय दीपिका ने पिछले 14 सालों में एक लंबा सफर तय किया है।

दीपिका कुमारी बताती हैं कि उनका जन्म एक चलते हुए ऑटो में हुआ था क्योंकि उनकी माँ अस्पताल नहीं पहुंच पायी थीं।

दीपिका कुमारी के पिता शिव नारायण महतो एक ऑटो-रिक्शा ड्राइवर के रूप में काम किया करते थे। वहीं, उनकी माँ गीता महतो एक मेडिकल कॉलेज में ग्रुप डी कर्मचारी के रूप में काम करती हैं।

दीपिका कहती हैं कि "वह तीरंदाजी के प्रति इतनी दीवानी हैं क्योंकि उन्होंने इस खेल को नहीं बल्कि इस खेल ने उन्हें चुना है।"

भारतीय तीरंदाज दीपिका कुमारी पेरिस में आयोजित तीरंदाजी विश्वकप (स्टेज 3) में तीन गोल्ड मेडल जीतकर वर्ल्ड रैंकिंग में पहले पायदान पर पहुंच गई हैं।

दीपिका कुमारी ने महिलाओं की व्यक्तिगत रिकर्व स्पर्धा के फाइनल राउंड में रूसी खिलाड़ी एलेना ओसीपोव को 6-0 से मात देकर तीसरा गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

दीपिका कुमारी इससे पहले मात्र 18 साल की उम्र में वर्ल्ड नंबर वन खिलाड़ी बन चुकी हैं।

अब तक विश्व कप प्रतियोगिताओं में 9 गोल्ड मेडल, 12 सिल्वर मेडल और सात ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली दीपिका कुमारी की नज़र अब ओलंपिक मेडल पर है।

दीपिका कुमारी अगले महीने टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने के लिए जापान जा रही हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि भारत की ओर से जा रही तीरंदाजी टीम में वह अकेली महिला हैं।

तीन ओलंपिक खेलों के बीच दीपिका ने एक महिला के रूप में भी काफ़ी लंबा सफर तय किया है।

खेल जगत और बॉलीवुड की ऐसी ही मजेदार और चटपटी खबरों को जानने के लिए यहाँ क्लिक करें!