संगम तीरे लगा श्रदालुओं का तांता, आसमान से यूं दिखा विहंगम नजारा, देखें अद्भुत तस्वीरें

कुम्भ मेला 2019 का आगाज हो मकर संक्रांति के दिन से शुरू हो गया। देशभर से आए साधु-संतों और श्रद्धालुओं ने पवित्र संगम तट पर आस्था की डुबकी लगाई। यहां देशभर के अलावा कई देशों के लोग भी डुबकी लगाने आते हैं।


Aerial View of kumbh mela
  • 1 / 10

    कुम्भ मेला 2019 का आगाज हो मकर संक्रांति के दिन से शुरू हो गया। देशभर से आए साधु-संतों और श्रद्धालुओं ने पवित्र संगम तट पर आस्था की डुबकी लगाई। यहां देशभर के अलावा कई देशों के लोग भी डुबकी लगाने आते हैं।

  • 2 / 10

    कुम्भ मेले के महत्व को देखते हुए और यहां करोड़ों लोग अपनी अपने बुरे कर्मों को धोने आते हैं और अच्छे कर्मों एवं अच्छे जीवन की कामना करते हैं।

  • 3 / 10

    कहा जा रहा है कि कुम्भ मेला शुरू होने से लेकर अब तक लगभग डेढ़ करोड़ो लोगों ने आस्था की डुबकी लगाई है। कुम्भ मेला चार जनवरी तक चलेगा। अभी कई करोड़ लोगों का आना बाकी है।

  • 4 / 10

    प्रयागराज में गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम होता है। इसके चलते यहां स्नान करना पवित्र माना जाता है। इसकी पवित्रता को देखते हुए हर साल मकर संक्रांति के दिन यहां करोड़ो लोग स्नान करने आते हैं।

  • 5 / 10

    कुम्भ मेला 2019 अर्द्ध कुम्भ है। जिससे इसका महत्व और बढ़ गया है। इसलिए इस बार के कुम्भ मेला में अधिक से अधिक लोग स्नान करना चाहते हैं। इसे देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने भी यहां आए श्रद्धालुओं और साधु-संतों की सुरक्षा के लिए काफी संख्या में पुलिस बल तैनात किया है।

  • 6 / 10

    मकर संक्रांति के दिन शुरू हुए कुंभ के पहले दिन निरंजनी अखाड़ों की महिलाओं ने संगम में आस्था की डुबकी लगाई। इतना ही केंद्रीय मंत्री निरंजन ज्योति ने भी त्रिवेणी में डुबकी लगाई।

  • 7 / 10

    एक विदेशी महिला कुम्भ मेले में स्नान के लिए जाते हुए। आपको बता दें कि कुम्भ मेला भारतीयों के लिए ही नहीं बल्कि विदेशियों के लिए भी महत्व रखता है। यहां स्नान के लिए सैंकड़ों विदेशी आते हैं।

  • 8 / 10

    साधु-संतों का अखाड़ा अपने लश्करों के साथ धूमधाम से स्नान के लिए जाते हुए। यहां स्नान के लिए कई देशभर के साधु संत मंत्रोच्चार और भजन गाते हुए राजा प्रयाग की नगरी आते हैं।

  • 9 / 10

    कुम्भ मेला 2019 में साधु-संतों के अखाड़े का अलावा किन्नार संन्यासियों का अखाड़ा भी शामिल हुआ और पवित्र संगम में आस्था की डुबकी लगाई।

  • 10 / 10

    अपनी पूरी तैयारियों के साथ संगम में डुबकी लगाने जाती हुई किन्नर संन्यासी। किन्नर संन्यासियों ने जूना अखाड़ा के साथ मिलकर डुबकी लगाई।

  • Leave a Reply