द ताशकंद फाइल्स ने इन ब्लॉकबस्टर फिल्मों को दी मात, ऐसी सफलता पाने वाली बनी साल की दूसरी फिल्म

द ताशकंद फाइल्स (The Tashkent Files) के रिलीज होने के बाद कई ब्लॉकबस्टर फिल्में आईं और वर्ल्ड कप मैच 2019 भी हुआ। बावजूद इसके फिल्म ने सिनेमाघरों में 100 दिन पूरे कर लिए हैं। ये फिल्म के लिए बड़ी कामयाबी होगी। इससे पहले उरी (Uri Movie) ने ये सफलता हासिल की थी।

Author   |     |     |     |   Updated 
द ताशकंद फाइल्स ने इन ब्लॉकबस्टर फिल्मों को दी मात, ऐसी सफलता पाने वाली बनी साल की दूसरी फिल्म
द ताशकंद फाइल्स फिल्म ने थिएटर में 100 साल पूरे कर लिए हैं(फोटो:यूट्यूब)

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत के राज से जुड़े तथ्य को दर्शाते हुए फिल्ममेकर विवेक अग्निहोत्री ने ‘द ताशकंद फाइल्स (The Tashkent Files)’ बनाई थी। ये फिल्म लाल बहादुर शास्त्री के मौत के ईद-गिर्द घूमती है। ये फिल्म 12 अप्रैल को रिलीज हुई थी। इसे लोगों का मिला-जुला रिस्पॉन्स मिला था। भले इसने बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास धमाल ना मचाया हो, लेकिन इस फिल्म ने एक बड़ी सफलता हासिल कर ली है। विक्की कौशल (Vicky Kaushal) की उरी फिल्म (Uri: The Surgical Strike) के बाद इस साल की एक ऐसी फिल्म बन गई है जिसने सिनेमाघरों में 100 दिन पूरे कर लिए हैं।

फिल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ के लिए ये एक बड़ी सफलता है क्योंकि इसके रिलीज से लेकर अब तक कबीर सिंह से लेकर आर्टिकल 15 तक, कई बड़ी और ब्लॉकबस्टर फिल्में रिलीज हुईं। इतना ही नहीं, इस बीच वर्ल्ड कप 2019 (World Cup 2019) भी हुआ था बावजूद इसके ये फिल्म सिनेमाघरों में अपना कब्जा जमाए रही। आज के दौर में जहां बड़े-बड़े स्टार्स की फिल्में 2 से 3 हफ्ते बाद ही सिनेमाघरों से उतर जाते हैं ऐसे में इसका इन सभी चुनैतियों के बीच यूं टिके रहना वाकई में एक मिसाल है। आपको बता दें कि इस फिल्म में लाल बहादुर शास्त्री और नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बीच कनेक्शन भी दिखाया गया है।

देखिए इस कामयाबी का पोस्टर…

इस फिल्म में श्वेता प्रसाद बसु, मिथुन चक्रवर्ती, नसीरुद्दीन शाह, पल्लवी जोशी. मंदिरा बेदी, विनय पाठक और पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) जैसे कलाकार नजर आए थे। फिल्म के बारे में अपने एक इंटरव्यू में इसके डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री ने कहा था, ‘ 10 जनवरी, 1966 को लाल बहादुर शास्त्री ने ताशकंद में पाकिस्तान के साथ शांति समझौते पर होने वाले करार पर दस्तखत किए। इसके करीब 12 घंटे बाद (11 जनवरी, 1966) उनकी मौत हो गई। आज भी उनकी मौत का रहस्य बरकरार है। क्या उनकी हार्ट अटैक से मौत हुई या फिर उन्हें जहर दिया गया था। उनकी मौत देश और उनके परिवार के लिए आज भी रहस्य है।’ विवेक इससे पहले ‘चॉकलेट’, ‘दे दनादन गोल’, ‘बुद्धा इन अ ट्रैफिक जाम’ जैसी फिल्में बना चुके हैं।

देखिए द ताशकंद फाइल्स का ट्रेलर…

Exclusive News, TV News और Bhojpuri News in Hindi के लिए देखें HindiRush । देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से ।

Story Author: जागृति प्रिया

जागृति प्रिया
मुझे एंटरटेंमेंट, लाइफस्टाइल, हेल्थ, ट्रेंड और ब्यूटी की खबरें लिखना पसंद है। पाठकों को इनसे जुड़ी खबरों से अवगत कराती हूं। मैंने पॉलिटिकल साइंस में ग्रेजुएशन करने के बाद माखनलाल यूनिवर्सिटी से मास्टर इन जर्नलिज्म किया है।

jagriti.priya@hindirush.com     +91 9004241611
601, ड्यूरोलाइट हाउस, न्यू लिंक रोड, अंधेरी वेस्ट,मुंबई, महाराष्ट्र, इंडिया- 400053
Tags: , , , ,

Leave a Reply