रुक जायेगा पद्मावती का विरोध, सिर्फ माननी पड़ेगी ये एक शर्त

इस शर्त पर रुक जायेगा पद्मावती का विरोध

इस शर्त पर रुक जायेगा पद्मावती का विरोध
इस शर्त पर रुक जायेगा पद्मावती का विरोध

पद्मावती पर चल रहे विरोध के बाद अब करणी सेना ने कहा है कि वो पद्मावती को लेकर अपना विरोध वापस ले लेंगे अगर यह फिल्‍म मेवाड़ के राजघराने के लोगों को दिखाई जाए और अगर उनके तरफ से कोई आपत्ति नहीं जताई जायेगी तो यह इस फिल्म को लेकर चल रहे अपने विरोध को वापस ले लेंगे|

आपको बता दें कि फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज़ होने वाली थी लेकिन विरोध को लेकर अब यह फिल्म तय समय पर रिलीज़ नहीं होने वाली है|

फिल्म पद्मावती के आसपास के विवादों को देखते हुए ऐसा लगता है कि ये खत्म होने वाला नहीं है| फिल्म की शूटिंग के दौरान, करनी सेना ने राजस्थान में शूट को बाधित कर दिया और निर्देशक संजय लीला भंसाली पर भी हमला किया। एसएलबी ने एक आधिकारिक बयान जारी करने के बावजूद कि फिल्म अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मावती के बीच किसी भी तरह के रोमांटिक रिश्ते को नहीं दिखाया जायेगा उन्होंने मुंबई में भी शूटिंग को बाधित करने की कोशिश की थी|अब जय राजपूताना संघ के सदस्यों ने शनिवार को जयपुर में कई सिनेमा हॉल और मल्टीप्लेक्स के प्रबंधन से मुलाकात की और उन्हें फिल्म की स्क्रीनिंग के खिलाफ चेतावनी दी।

अभी ऐसी खबर आ रही थी कि मेरठ के एक ठाकुर नेता ने पद्मावती के निर्देशक संजय लीला भंसाली और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के सिर काटने वाले को पांच करोड़ रुपये के इनाम की घोषणा की है। अखिल भारतीय क्षत्रिय युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिषेक सोम ने अपने बयान में कहा, “संजय लीला भंसाली और दीपिका के सिर काटकर लाने वाले को पांच करोड़ रुपये इनाम दिया जाएगा।”

उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, “रानी मां पद्मावती ने 12 हजार अन्य महिलाओं के साथ जौहर कर लिया था और भंसाली ने फिल्म में उनका गलत चित्रण कर उनके साहस पर सवाल उठाया है। यह अस्वीकार्य है। या तो दोनों लोग देश छोड़ दें या सिर कटने के लिए तैयार रहें।’ उधर, इस धमकी के बाद मुंबई पुलिस ने भंसाली और दीपिका के घर की सुरक्षा बढ़ा दी है।”

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावती’ को लेकर कई सारे विवाद सामने आये हैं| कभी फिल्म के सेट पर तोड़ फोड़ तो कभी सामान को जला देना| इन सब आक्रामक कार्यवाही के पीछे है राजपूत करणी सेना| इनके अलावा क्षत्रीय समाज समेत देश के कई संगठनों ने फिल्म के प्रति अपना विरोध जताया है| यही नहीं बल्कि फिल्म के प्रति विरोध इतना बढ़ गया है कि फिल्म रिलीज़ न होने की धमकियाँ दी जा रही हैं यही नहीं बल्कि थिएटर्स को जलाने की बात कही जा रही है|

Leave a Reply