आइफा में कंगना पर निशाना साध पछताए वरुण धवन और करण जौहर, मांगनी पड़ी माफ़ी

करन जौहर ने आईफा 2017 में नेपोटिज्म का मुद्दा लेकर कंगना रनौत पर साधा था निशाना

By   |    |   4,446 reads   |  0 comments
आइफा में कंगना पर निशाना साध पछताए वरुण धवन और करण जौहर, मांगनी पड़ी माफ़ी

नेपोटिज्म रॉक्स: वरुण धवन के बाद, करन जौहर ने आइफा में कंगना का मज़ाक उड़ाने के लिए मांगी माफ़ी

करन जौहर, सैफ अली खान और वरुण धवन ने आइफा के दौरान ‘नेपोटीज्म रॉक्स’ का नारा लगा कर कंगना रनौत पर निशाना साधा था|

कई लोगों को ये बात अच्छी नहीं लगी और उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कंगना रनौत का मज़ाक उड़ाने के लिए उनकी आलोचना की| लोग उनके इस प्रतिक्रिया के लिए माफी मांगने का इंतजार कर रहे थे और उन्होंने अंततः यही करना पड़ा|

कल, वरुण ने अपने ट्विटर पर लिखा और माफी मांगी, उन्होंने लिखा, “मैं अपनी क्षमायाचना और अफसोस व्यक्त करता हूं .. अगर मैंने किसी को नाराज़ किया है या इस अधिनियम के साथ किसी को चोट पहुंचाई है ..मुझे बहुत अफसोस है|”

सैफ ने कहा, “मेरे लिए, आईफा में यह सिर्फ एक मजाक था और मुझे इसमें ज्यादा कुछ नहीं लगा| लेकिन अब मुझे लगता है कि हमने इसे और अधिक बढ़ा दिया| हम इस सार्वजानिक व्याख्यान को और अधिक निर्णायक रूप से समाप्त कर सकते थे।”

अब, करन ने एनडीटीवी के साथ एक बातचीत के दौरान कहा कि उन्हें कंगना पर निशाना साधने और आईफा अवार्ड्स में भाई-भतीजावाद के बारे में बात करने के लिए खेद है। उन्होंने कहा, “निश्चित रूप से मुझे विश्वास नहीं है कि ‘नेपोटिज्म रॉक्स’। बेशक, मुझे विश्वास है कि केवल ‘टैलेंट रॉक्स’ अगर कुछ रॉक करेगा तो यह आपकी प्रतिभा, कड़ी मेहनत और दृढ़ विश्वास है। यह एनर्जी आप अपने काम में लाते है| हमने जो कहा वह एक मजाक था, जिसका मुझे लगता है कि वह गलत मतलब निकाला गया और मुझे लगता है कि यह गलत हो गया। मुझे खेद है। ”

उन्होंने कहा, “इस मजाक का विचार पूरी तरह से मेरा था, इसलिए मैंने जो कुछ कहा है, उसके बारे में मैं सोचता हूं। और मुझे लगता है कि हम कंगना का नाम लेकर इसे बढ़ा दिया|

करण जौहर ने कंगना के साथ अपने मुद्दों के बारे में भी कहा, “चाहें मैं अपने शो कॉफ़ी विद करन में हुए कंगना की बात पर जो भी महसूस करूँ या फिर हमारे बीच जो भी परेशानियाँ हैं मुझे लगता है मैं एक सम्मानजनक, शख्सियत और एक सभ्य व्यक्ति की तरह बड़ा हुआ हूँ| मैं कुछ इस तरह बड़ा हुआ हूँ लेकिन इस बार मैं फेल हो गया| मुझे लगा कि मेरे विचार या निजी मुद्दे चाहें जो कुछ भी हों, मुझे बार-बार ऐसा नहीं करना चाहिए था, इसके लिए मुझे बहुत दुःख है। ”

उन्होंने कहा, “मैं एक बार और सभी के लिए यह कहना चाहता हूं,इसके बाद इस अध्याय को बंद कर दूंगा और बाद में मैं भाई-भक्ति के बारे में बात नहीं करूंगा और न ही कंगना| हूं क्योंकि यह उसके लिए अविश्वसनीय होगा और यह मेरे तरफ से अशुभ होगा, जो मैंने किया है पहले से ही किया गया है। नेपोटिज्म एक आसान पहुंच है, इससे कोई भी इनकार नहीं कर सकता है, लेकिन आप उस पहुंच के साथ जो कर रहे हैं, वह आपको इस पेशेवर में बनाये रखता है|”

 

Leave a Reply