सावन में भगवान शिव की भक्ति का है विशेष महत्व, जानिए पौराणिक कथा

सावन (Sawan 2022) के पवन महीने की शुरुआत आज (14 जुलाई) से हो गई है। देशभर में चारों ओर शिव भक्तों की धूम देखने को मिल रही है। मंदिरों में घंटों और भजनों की गूंज सुनाई दे रही है। शिव भक्त भगवान भोले की भक्ति में डूबे नजर आ रहे हैं। हिन्दू धर्म में सावन माह का विशेष महत्व होता है। ये महीना शिव भक्तों के लिए काफी खास रहता है। हिंदू कैलेंडर के मुताबिक पांचवां माह श्रावण मास का होता है। इसे सावन मास के नाम से भी जानते हैं।

  |     |     |     |   Updated 
सावन में भगवान शिव की भक्ति का है विशेष महत्व, जानिए पौराणिक कथा
सावन 2022

सावन (Sawan 2022) के पवन महीने की शुरुआत आज (14 जुलाई) से हो गई है। देशभर में चारों ओर शिव भक्तों की धूम देखने को मिल रही है। मंदिरों में घंटों और भजनों की गूंज सुनाई दे रही है। शिव भक्त भगवान भोले की भक्ति में डूबे नजर आ रहे हैं। हिन्दू धर्म में सावन माह का विशेष महत्व होता है। ये महीना शिव भक्तों के लिए काफी खास रहता है।

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक पांचवां माह श्रावण मास का होता है। इसे सावन मास के नाम से भी जानते हैं। यह पूरा माह भगवान शिव को ही समर्पित होता है। इसी कारण इसे भोलेनाथ का सबसे प्रिय मास कहा जाता है। शिव पुराण के अनुसार, सावन मास में भोलेनाथ और माता पार्वती भू-लोक में निवास करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर सावन मास को भी भगवान शिव का प्रिय माह क्यों कहा जाता है। जानिए इसके पीछे की पौराणिक कथा।

सावन की पौराणिक कथा:

पौराणिक कथा के अनुसार कहा जाता है कि सावन के महीने में ही समुद्र मंथन हुआ था। इस मंथन से हलाहल विष निकला जिससे चारों ओर हाहाकार मच गया था। संसार की रक्षा करने के लिए भगवान शिव ने विष को कंठ में धारण कर लिया। विष की वजह से कंठ नीला पड़ गया और वे नीलकंठ कहलाए। विष का प्रभाव कम करने के लिए सभी देवी-देवताओं ने भगवान शिव को जल अर्पित किया, जिससे उन्हें राहत मिली। इससे वे प्रसन्न हुए। तभी से हर साल सावन मास में भगवान शिव को जल अर्पित करने , उनका जलाभिषेक करने की प्रथा शुरू हो गई।

इस कारण भगवान शिव को पसंद है सावन माह:

पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान शिव को सावन माह बेहद प्रिय है। क्योंकि दक्ष की पुत्री माता सती ने अपने जीवन को त्याग कर कई वर्षों तक शापित जीवन जिया। इसके बाद हिमालयराज के घर में उनका पुत्री के अवतार में जन्म हुआ। जहां उनका नाम पार्वती रखा गया। माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने का दृढ़ निश्चय लिया। ऐसे में मां पार्वती ने कठोर तपस्या की, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उनके विवाह करने का प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। इसके बाद सावन माह में ही शिव जी का विवाह माता पार्वती से हुआ था। सावन मास में भगवान शिव अपने ससुराल आए थे, जहां पर उनका अभिषेक करके धूमधाम से स्वागत किया गया था। इस वजह से भी सावन माह में अभिषेक का महत्व है।

सावन महीने का कैलेंडर: इस साल होगा 30 दिन का श्रावण मास, इसमें 4 सोमवार और 26 दिन रहेंगे शुभ

बॉलीवुड, टीवी और लाइफस्टाइल से जुड़ी खबरों के लिए क्लिक करें:

Exclusive News, TV News और Bhojpuri News in Hindi के लिए देखें HindiRush । देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से ।

Story Author: lakhantiwari



    +91 9004241611
601, ड्यूरोलाइट हाउस, न्यू लिंक रोड, अंधेरी वेस्ट,मुंबई, महाराष्ट्र, इंडिया- 400053
    Tags: , , ,

    Leave a Reply