ड्रग्स, बन्दूक, अफेयर्स किसी फिल्म से कम नहीं बॉलीवुड के खलनायक संजय दत्त की असल कहानी

 बॉलीवुड के खलनायक संजय दत्त की लाइफ असल में है ऐसी, ड्रग्स से लेकर प्यार तक जानें पूरी कहानी

 बॉलीवुड के खलनायक संजय दत्त की लाइफ असल में है ऐसी, ड्रग्स से लेकर प्यार तक जानें पूरी कहानी
 बॉलीवुड के खलनायक संजय दत्त की लाइफ असल में है ऐसी, ड्रग्स से लेकर प्यार तक जानें पूरी कहानी

‘अपना लाइफ़ कभी अप, कभी डाउन. ड्रग्स लिया, महंगे होटलों में भी रहा और जेल में भी, घड़ियां भी पहनीं, हथकड़ियाँ भी, 308 गर्लफ्रेंड्स थीं और एक एके-56 राइफल|’

संजय दत्त आज अपना 59 वां जन्मदिन मना रहे हैं| हाल में ही संजय दत्त के जीवन पर आधारित फिल्म संजू रिलीज़ हुई थी| जिसमें उनकी ज़िन्दगी को कुछ इन शब्दों में बयान किया गया था| लेकिन इस फिल्म से अलग संजय दत्त की अपनी ही अलग कहानी है| आइये उनके जन्मदिन पर जानते है संजय दत्त के बारे में कि उनकी असल ज़िन्दगी क्या है?

कैमरे से शर्माए लेकिन फिर वही बनी ज़िन्दगी

29 जुलाई 1959 को संजय के पैदा होने के बाद नरगिस दत्त और सुनील दत्त को इस बात का बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि उनका दुलारा बेटा ज़िंदगी के आने वाले सफ़र में किन-किन रास्तों से गुज़रेगा| बचपन में संजय दत्त का स्वाभाव शर्मीला था| कैमरे के सामने होने पर वो खुद को अपनी माँ के पल्लू में छिपा लेते थे| तब उन्हें अंदाजा नहीं था कि आगे चलकर उन्हें जिंदगीभर इसका सामना करना पड़ेगा|

ड्रग्स की शुरुआत हुई ऐसे

1977 में संजय दत्त लॉरेंस स्कूल से 18 बरस की उम्र में घर लौटे| जिसके बाद उन्होंने मुंबई के एल्फिंस्टन कॉलेज में अपना एडमिशन करवाया| इसी दौरान वो ड्रग्स के चंगुल में फंस गए| जिसका अंदाजा उन्होंने अपने परिवार को नहीं लगने दिया| एक इंटरव्यू के दौरान संजय दत्त ने कहा था कि वे अपने कमरे में बंद रहते थे| शायद उनकी माँ नरगिस को अंदाज़ा था कि उनका बेटा ड्रग्स लेने लगा है हालाँकि उन्होंने इस बारे में ना तो उनसे पूछा और न ही सुनील दत्त से कुछ कहा|

ऐसे शुरू हुआ फ़िल्मी सफ़र

संजय दत्त ने थोड़े बड़े होने के बाद तय कर लिया कि वो अपने माँ और पिता की तरह ही फ़िल्मों में करियर बनाना चाहते हैं| जिसके बाद संजय दत्त ने पहली बार 1971 में ‘रेशमा और शेरा’ फ़िल्म में एक चाइल्ड एक्टर के तौर पर एक्टिंग करते नज़र आये| बाद में चलकर सुनील दत्त ने बॉलीवुड की एंट्री की ट्रेनिंग करवाई| जब संजय फ़िल्मों के लिए पूरी तरह से तैयार हो गए तो उनके पिता सुनील दत्त ने ‘रॉकी’ फ़िल्म में उन्हें हीरो के तौर पर उन्हें लांच करने का फैसला किया और टीना मुनीम को उनकी हीरोइन के तौर पर कास्ट किया|

फिल्म से पहले खोयी माँ

अभी ‘रॉकी’ की शूटिंग ही चल ही रही थी कि पता चला कि नरगिस दत्त को कैंसर है| सुनील दत्त नरगिस का इलाज़ कराने के लिए अमरीका गए| जहाँ पर वो करीब दो महीने तक कोमा में थी| जब उन्हें होश आया तो उन्होंने आँखें खोलते हुए पूछा- “संजय कहाँ है?” कुछ वक्त बाद तबीयत कुछ ठीक होने पर नरगिस भारत लौट आईं|

इस दौरान संजय दत्त ने अपनी फिल्म की शूटिंग पूरी कर ली| इधर सुनील दत्त ने भी सारी तैयारी कर दी थी| 7 मई 1981 को ‘रॉकी’ का प्रीमियर होने वाला था| लेकिन इससे पहले नरगिस की तबीयत दोबारा बिगड़ गई, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन 3 मई 1981 को नरगिस ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया| साथ ही साथ ‘रॉकी’ के प्रीमियर पर अपने बेटे को देखना बाकी रह गया|

ड्रग्स छोड़ा तो मिली फिल्म

माँ के जाने के बाद संजय दत्त ने फैसला किया कि वो अब ड्रग्स छोड़कर ही रहेंगे| रिहैबीलेशन से लौटने के बाद पप्पू वर्मा ने ‘जान की बाज़ी’ फ़िल्म के लिए संजय दत्त को साइन कर लिया| ये फ़िल्म 1985 में रिलीज़ हुई| फिल्म के सफल होने के बाद संजय ने फिल्मो को सीरियसली लेने का फैसला किया|

पहली पत्नी ऋचा से ऐसी रही मुलाकात


कई बार प्यार में पड़ने के बाद संजय दत्त का दिल ऋचा शर्मा पर जा टिका| देवानंद ने उन्हें फिल्म के लिए ढूँढा था| कई जगहों पर मिलने के बाद वो एक-दूजे के करीब आ गए| 1987 में उन्होंने शादी की और अगले ही साल दोनों की बेटी त्रिशला का जन्म हुआ| बाद में पता चला कि ऋचा को ब्रेन ट्यूमर है| बाद में इलाज के लिए ऋचा और त्रिशला अमरीका शिफ्ट हो गई|

माधुरी के साथ अफेयर रहा चर्चा का विषय


ऋचा संजय दत्त से बहुत दूर अमेरिका में अपना इलाज़ करवा रही थी और इस दौरान दोनों के बीच दूरियां बढ़ गईं| बाद में खबरें आने लगी कि माधुरी दीक्षित के साथ उनका अफेयर चल रहा है| ‘नाम’ की कामयाबी के बाद संजय दत्त की फ़िल्में लगातार फ्लॉप होती रहीं लेकिन माधुरी दीक्षित और सलमान खान के साथ की 1991 में आई फ़िल्म ‘साजन’ ने जैसे उनके करियर में पंख जोड़ दिया हो|

फंसे मुसीबत में

संजय अपनी दुनियां में मग्न थे लेकिन तभी उनकी लाइफ में ऐसा तूफ़ान आया जो उन्हें तबाह कर गया| साल 1993 में संजय ‘आतिश’ की शूटिंग के लिए मॉरीशस गए हुए थे| इस दौरान भारत में 1993 में हुए बम धमाकों की जांच चल रही थी| समीर हिंगोरा और हनीफ कड़ावाला जैसे लोग पकड़े जा चुके थे और उन्होंने पुलिस को बताया कि संजय के पास एके-56 राइफल थी|

इधर मारीशस से मुंबई लौटे संजय दत्त को अंदाजा नहीं था कि उनकी दुनियां बदलने वाली है| उन्हें आतंकवाद निरोधक क़ानून ‘टाडा’ के तहत गिरफ्तार कर लिया गया|

‘द क्रेजी अनटोल्ड स्टोरी ऑफ बॉलीवुड बैडबॉय’ में यासिर उस्मान ने लिखा है , ”संजय ने पुलिस को बताया कि फिरोज ख़ान की यलगार फ़िल्म की शूटिंग के दौरान दुबई में उनकी मुलाकात दाऊद और अनीस से हुई थी| संजय ने अबु सलेम, हनीफ और समीर से तीन एके-56 ली थी| लेकिन दो एके-56 बाद में लौटा दी|”

टुटा माधुरी संग रिश्ता

इन सभी आरोपों के बाद संजय को कुछ दिन जेल में रहना पड़ा लेकिन वो बेल पर बाहर आ गए| लेकिन माधुरी ने उनके साथ अपना सारा रिश्ता तोड़ दिया|

शादी और बच्चे

बाद में चलकर संजय दत्त ने रिहा पिल्लई से शादी की लेकिन अफेयर्स की वजह से रिया ने अपना रिश्ता उनके साथ तोड़ लिया | कुछ सालों बाद उन्होंने मान्यता दत्त के साथ शादी की| पहली पत्नी ऋचा के साथ उनकी बेटी त्रिशला के अलावा मान्यता के साथ उन्होंने इकरा और शहरान को जन्म दिया|

फिल्में

आज संजय दत्त फिल्मों में और भी ज्यादा सक्रीय हो चुके हैं| हाल में ही उनकी फिल्म साहब बीबी और गैंगस्टर 3 रिलीज़ हुई थी|

हिंदी रश की तरफ से उन्हें जन्मदिन की ढेरों बधाईयाँ!

Leave a Reply